मधुमेह रोग के मुख्य लक्षण

  • Feb 06 , 2017

बोलचाल की भाषा में हम मधुमेह के लिए “शुगर की समस्या” का प्रयोग भी करते हैं. इसका बड़ा साधारण कारण है. मधुमेह में आपके खून में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ जाती है. इन्सुलिन की उत्पत्ति घट जाती है. इसके रोगी को हर वक़्त हरारत महसूस होती रहती है. उसे बार-बार पेशाब की प्रवृति भी होती है. इसका दूसरा लक्षण है जल्दी-जल्दी, भूख और प्यास का अहसास होना. पूरी दुनिया में मधुमेह के मरीजों की संख्या में बढ़ावा देखा जा रहा है. निस्संदेह इसका एक मूल कारण हमारा भोजन है. लेकिन, इसके अलावा भी कई और कारण इसके लिए जिम्मेदार होते हैं.

मधुमेह के तीन प्रकार बताये जाते हैं.

  1. इसमें शरीर में इन्सुलिन का बनना बंद हो जाता है. आपको जीवन भर इन्सुलिन के इंजेक्शन लेने पड़ते हैं ताकि शरीर में इन्सुलिन की मात्रा बनी रहे. इस तरह का मधुमेह मूलतः चालीस साल से पहले हो जाता है. या तो काफी छोटी उम्र में या फिर किशोर वे में हो जाता है. मधुमेह के लगभग दस फ़ीसदी रोगी इस किस्म में आते हैं. इससे निपटने के लिए आपको पूरे जीवन अनुशासित रूप से संतुलित आहार लेना पड़ेगा. इस बात का ख़ास ध्यान रखना होगा की आपके खून में ग्लूकोज की मात्रा नियमित रहे.
  2. दुनिया के लगभग नब्बे फीसदी मधुमेह-रोगी इस प्रकार के होते हैं. इसमें आपके शरीर में इन्सुलिन तो बनता है लेकिन इसकी उपयोगिता नष्ट हो जाती है. इस प्रकार का मधुमेह धीरे-धीरे बढ़ता जाता है और अंततः आपको इन्सुलिन के टेबलेट्स या इंजेक्शन लेना पड़ता है. इसका सबसे बड़ा कारक मोटापा है. इसके लिए शारीरिक स्थूलता, वसा युक्त भोजन या पैक्ड फ़ूड दोषी माने जाते हैं. इसको नियंत्रित करने का एकमात्र तरीका अपनी जीभ पर लगाम लगाना और कसरत करना है. कम से कम वसा युक्त भोजन और नियमित रूप से शरीर को चुस्त बनाने से आप अपने शरीर से फैट कम कर सकते हैं. इससे आपके शरीर में ग्लूकोज लेवल पर लगाम कसने में आसानी होती है.
  3. जेस्टेसनल मधुमेह- ये शिकायत गर्भवती महिलाओं में होती है. गर्भ के दौरान कई महिलाओं का ग्लूकोज लेवल काफी ज्यादा हो जाता है. इसके नियंत्रण के लिए कुछ शारीरिक व्यायाम या ऊपर से इन्सुलिन टेबलेट्स लिए जाते हैं.

उपयुक्त तीनों मधुमेह को जांचने के लिए इसके लक्षण को पहचानना बहुत जरूरी है. हालंकि, इसका सरल उपाय है की आप किसी डॉक्टर के पास जाकर अपना खून जांच या मूत्र जाँच करवा लें पर अगर आप अपने संदेह को पक्का करना चाहते हैं तो इन बातों पर गौर करना शुरू कर दें.

  1. असाधारण रूप से वजन का घटना या बढ़ना.
  2. अगर कहीं कट जाए या घाव हो जाए तो उसे भरने में बहुत ज्यादा समय लगना.
  3. मसूड़ों में सूजन या खून निकलना. मसूड़ों का दांतों का छोड़ना.
  4. बहुत कम समय में बार-बार पेशाब लगना.
  5. बहुत जल्द-जल्दी भूख का अहसास होना
  6. सेक्स में रुचि घटना.
  7. त्वचा में खुजली होता रहना.
  8. आँखों के सामने धुंधलापन छाना.
  9. मन हमेशा चिढ़ा रहना.
  10. हर वक़्त हरारत महसूस करना.
  11. हाथों और पैरों का शुष्क पड़ते रहना.

अगर इनमें से ज्यादातर लक्षण आपको महसूस हो रहें हैं, तो बिना किसी हिचक के तुरंत किसी नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें.